हर हाल बेगाने – मृदुला गर्ग | Har Haal Begaane – Mridula Garg

हर हाल बेगाने कहानी संग्रह में कुल बारह कहानियाँ संग्रहित हैं, जिसमें से सितम के फनकार एक मात्र नयी कहानी है तथा बाकी की कहानियाँ पूर्वप्रकाशित संग्रहों से ली गयी…

Continue Reading हर हाल बेगाने – मृदुला गर्ग | Har Haal Begaane – Mridula Garg

वो दूसरी – मृदुला गर्ग | Voh Dusari – Mridula Garg

'वो दूसरी' कहानी संग्रह का प्रकाशन वर्ष 2014 में हुआ जिसमें अन्य संग्रहों में संग्रहित कहानियों के साथ कुछ नई कहानियाँ भी संग्रहित हैं | इन कहानियों में स्त्री के…

Continue Reading वो दूसरी – मृदुला गर्ग | Voh Dusari – Mridula Garg

समागम : मृदुला गर्ग | ‘Samagam’ By : Mridula Garg

समागम कहानी संग्रह मृदुला जी के दो लेखों सहित आठ कहानियों का संग्रह है | इस संग्रह की कहानियाँ आठ वर्षों के लंबे अन्तराल में लिखी गई हैं | समागम…

Continue Reading समागम : मृदुला गर्ग | ‘Samagam’ By : Mridula Garg

शहर के नाम : मृदुला गर्ग | ‘Shahar ke naam’ By : Mridula Garg

शहर के नाम कहानी संग्रह में स्त्री जीवन के दर्द, संघर्ष, पीड़ा, विद्रोह, संत्रास और स्वतंत्रता की तड़प का यथार्थ चित्रण किया गया है। इस कहानी संग्रह में कुल ग्यारह…

Continue Reading शहर के नाम : मृदुला गर्ग | ‘Shahar ke naam’ By : Mridula Garg

उर्फ सैम : मृदुला गर्ग | ‘Urf Saim’ By : Mridula Garg

उर्फ सैम कहानी संग्रह में विविध विषयों पर लिखी गई कुल बारह कहानियों को संग्रहित किया गया है |  इस कहानी संग्रह की कहानियों में प्रवासी भारतीयों के जीवन से…

Continue Reading उर्फ सैम : मृदुला गर्ग | ‘Urf Saim’ By : Mridula Garg

ग्लेशियर से : मृदुला गर्ग | ‘Glacier se’ By : Mridula Garg

ग्लेशियर से कहानी संग्रह में अलग-अलग विषयों से सम्बन्धित कुल सोलह कहानिय संग्रहित हैं जिनका परिचय निम्न प्रकार से है | कहानी संग्रह का नामग्लेशियर से (Glacier se)लेखक (Author)मृदुला गर्ग (Mridula Garg)भाषा (Language)हिन्दी (Hindi)प्रकाशन वर्ष (Year…

Continue Reading ग्लेशियर से : मृदुला गर्ग | ‘Glacier se’ By : Mridula Garg

डेफोडिल जल रहे हैं : मृदुला गर्ग | Daffodil jal rahe hain By : Mridula Garg

डेफोडिल जल रहे हैं कहानी संग्रह में मृत्युबोध के अंकन के साथ-साथ नारी मन का भी चित्रण हुआ है | इसमें कुल तीन लंबी कहानियाँ संग्रहित हैं | 'डेफोडिल जल…

Continue Reading डेफोडिल जल रहे हैं : मृदुला गर्ग | Daffodil jal rahe hain By : Mridula Garg

टुकड़ा टुकड़ा आदमी : मृदुला गर्ग | Tukada Tukada Aadmi By : Mridula Garg

टुकड़ा टुकड़ा आदमी कहानी संग्रह की कहानियों में नारी के मानसिक संत्रास असफल वैवाहिक जीवन, आर्थिक शोषण आदि समस्या की अभिव्यक्ति हुई है | इस कहानी संग्रह में कुल चौदह…

Continue Reading टुकड़ा टुकड़ा आदमी : मृदुला गर्ग | Tukada Tukada Aadmi By : Mridula Garg

कितनी कैदें : मृदुला गर्ग | Kitni Kaiden kahani sangrah By : Mridula Garg

कितनी कैदें कहानी संग्रह का कथानक जितना प्रभावशाली है, उसके पात्र भी उतने ही प्रभावशाली एवं भिन्न-भिन्न आयामों से युक्त है | इस संग्रह की कहानियों में विभिन्न प्रकार के…

Continue Reading कितनी कैदें : मृदुला गर्ग | Kitni Kaiden kahani sangrah By : Mridula Garg

मिलजुल मन : मृदुला गर्ग | Miljul Man Upnayas By : Mridula Garg

मिलजुल मन मृदुला जी का आत्मकथात्मक उपन्यास है जिसकी कथा पिछले पचास वर्षों के घटनाक्रम को चित्रित करती है | इस उपन्यास की कहानी मोगरा तथा गुलमोहर दो बहनों के…

Continue Reading मिलजुल मन : मृदुला गर्ग | Miljul Man Upnayas By : Mridula Garg